मंगलवार, 30 दिसंबर 2008

संतोषी माता पूजा, कथा और उद्यापन कि विधि

संतोषी माता के पिता गणेश, माता रिद्धी-सिध्दि धन, धान्य, सोना, चांदी, मूंगा, रत्नों से भरा परिवार, गणपति माता की लाड भरी, गणपति पिता की दुलार, गणपति देव की कमाई, धंधे में बरकत, दरिद्रता दूर, कलह-क्लेश का नाश, सुख-शान्ति का प्रकाश, बालकों की फुलवारी, धंधे में मुनाफे की कमाई भारी, मनोकामना पूर्ण, शोक विपत्ति चिंता सब चूर्ण, संतोषी माता का लो नाम, जिससे बन जाए सब काम, बोलो... संतोषी माता की जय।
पूजा और कथा
व्रत-पूजा के लिए माँ संतोषी के चित्र के सामने जल से भरे पात्र के ऊपर एक कटोरी में गुड और भुने हुए चने रखें। गुड-चने की मात्रा अपनी सहूलियत के अनुसार कुछ भी रख सकतें हैं, कम-ज्यादा का कोई विचार न करें। जितना बन पड़े श्रद्धा और प्रेम से प्रसन्न-मन व्रत करना चाहिए, क्यों कि माता तो भावना कि भूखी है। इस व्रत को करने वाला कथा कहते समय हाथों में गुड और भुने हुए चने रखे। सुनने वाले 'संतोषी माता की जय' मुख से बोलते जायें। सुनने वाला कोई न मिले तो दीपक जला कर उसके आगे या जल के पात्र को सामने रख कर कथा कहें। कथा पूरी होने पर आरती, भोग लगाने के समय की विनती और चालीसा का पाठ करें। कथा समाप्त होने पर हाथ का गुड और चना गौमाता को खिलावें। कलश पर रखा गुड-चना सबको प्रसाद के रूप में बाटें। कलश के जल को घर में सब जगहों पर छिडकें, बचा हुआ जल तुलसी की क्यारी में सींच देवें।
उद्यापन
व्रत के उद्यापन में ढाई सेर खाजा, मोयमदार पुरी, चने कि सब्जी और खीर का भोग लगाना चाहिए। इस दिन कथा के समय नैवेद्य रखे घी का दीपक जला संतोषी माता कि जय जय कार बोल नारियल फोड़ना चाहिए । इस दिन खटाई न खावें, खट्टी वस्तु खाने से माता का कोप होता है। इसलिए उद्यापन के दिन भोग कि किसी सामग्री में खटाई न डालें। न आप खाएं, न किसी दुसरे को खानें दें। इस दिन आठ लड़कों को भोजन करावें। देवर-जेठ घर कुटुंब का मिलता हो पहले उन्हें बुलावें। न मिलें तो रिश्तेदारों, ब्राह्मणों या पड़ोसियों के लड़के बुलावें। भोजन कराने के बाद उन्हें यथा-शक्ति दक्षिणा देवें। नगद पैसे या खटाई कि कि कोई वस्तु न देवें। व्रत करने वाला कथा सुन एक समय भोजन-प्रसाद ले। इस प्रकार माता अत्यन्त प्रसन्न होंगी। दुख दरिद्रता दूर होकर चाही मुराद पूरी होगी।

23 टिप्‍पणियां:

rajinderpalma ने कहा…

helo
ham spain me haen . 3rd sep friday ko mene vort shuru kia he . magar hatjh wale chane aur gud ke liy jahan gay nhi he to iske liy muje kia karna chahie. thankes

archana ने कहा…

jay mata di jokuchh maine ab tak nahi jana tha aaj is likh ko padh kar jan liya is ke liye mai aap ka abhar parkat karti hu.dhanyad

neelam rai ने कहा…

mere aas pass kohi gomaata nahi hai..............to phir mjhe kya karana chahiye prasad ka.........kya main aise insano ko apana prasad de sakati hu jo katata kaate hai ya phir sirf gharwalao ko hi jo katate nahi kaate.........agr kohi aisa insan naa mile to kya main kudh hi saara prasad kaa sakati hu....
kirpaya mjhe is baare main jaanakari de............

बेनामी ने कहा…

Puja ke baad puja ke naariyal ka kya karna chahiye? Kripiya batayein. Koi kehta hai santoshi mata ke mandir mein do , mere ghar ke paas wale mandir mein manaa kar diya....aur koi kehta hai usse paani mein bahaa do....plz koi bataye kya karna chahiye???

बेनामी ने कहा…

kalas ko ek jagah bithana he aur aur ek kalash me pani var ke uske upar chana aur gud e katorime rakh k upar denge kya?

prem kumar ने कहा…

जय माँ जगतजननी
क्या इस व्रत को पुरूष भी कर सकते हैँ
मैँ मेरी माँ के स्वास्थ लाभ के लिये करना चाहता हूँ
क्रपया बतायेँ

Damit Diwakar ने कहा…

Han brother koi bhi rakh sakta h. Meine bhi rakha tha.

kanchan Badkar ने कहा…

Main 16 shukravaar ka vest kar rahi hoon. Mujhe Yeh janna that kind udtapan 16 shukravaar ko karte hain ya 17 ve shukravaar ko

Unknown ने कहा…

Prasad sirf unko de sakte h jisne khata na khaya ho.
Nariyal ko fod kar usko prasad ke rup me udhyapan ke samay hi bant de.
Ek hi kalash me pani rakhna h usi pe gur or chane ki katori rakhi jayegi
16 shukarvar ka udyapan 16 ve shukarvar ko hi hoga kyuki us din bhi pure din nirahar rah kar sham ko vrat khola jayega

Bindu dhull ने कहा…

Prasad sirf unko de sakte h jisne khata na khaya ho.
Nariyal ko fod kar usko prasad ke rup me udhyapan ke samay hi bant de.
Ek hi kalash me pani rakhna h usi pe gur or chane ki katori rakhi jayegi
16 shukarvar ka udyapan 16 ve shukarvar ko hi hoga kyuki us din bhi pure din nirahar rah kar sham ko vrat khola jayega

RUPALI ने कहा…

JAY MATA DI MUJHE YE JANNA HAI KI AGAR MAINE VRAT KA UDYAPAN KR DIYA HAI USKE BAAD AGAR USI DIN LADKE GHAR JA KAR KHATTA KHA LE TO ISSE KUCH FARK PADHTA HAI KYA. PLEAZE BTAYE.

Rajwinder Kaur ने कहा…

Hi mere vrat next Friday ko poore honge par 7 ladke naii mil rahe to kya main ladke or ladkiyaan ko mila kar 7 karke udaapan kar sakti hoon

Rajwinder Kaur ने कहा…

Hi mere vrat next Friday ko poore honge par 7 ladke naii mil rahe to kya main ladke or ladkiyaan ko mila kar 7 karke udaapan kar sakti hoon

Rajwinder Kaur ने कहा…

Hi mere vrat next Friday ko poore honge par 7 ladke naii mil rahe to kya main ladke or ladkiyaan ko mila kar 7 karke udaapan kar sakti hoon

vansh ने कहा…

Nhi

Unknown ने कहा…

Santoshi Matarani k vrat k din kishmish kha sakte Hai? Kripaya sujhao de.
Jai Santoshi Maa

Girl ने कहा…

mere yha aas pas koi ldka nhi..jise m udhyan k liye bulakr ..prshad khila sku.. kya m prshad sntoshi mata k mndir me dekr aa skti hu

vani asnani ने कहा…

Udyapan me ladko ki umar kya honi chahiye n prasad me kya banana hai.. Pls batayein

Ashish Dubey ने कहा…

Mujhe ladke nahi mil rahe udyapan k liye Kya Mai 8 jagah prashad laga kr gay ko khila sakti hu

Ashish Dubey ने कहा…

Mujhe ladke nahi mil rahe udyapan k liye Kya Mai 8 jagah prashad laga kr gay ko khila sakti hu

Ashish Dubey ने कहा…

Kripya humara Jawab de

Ashish Dubey ने कहा…

Kripya humara Jawab de

Unknown ने कहा…

Kya ye vrat 16 hi rakhe jate hai 5 7 9 11 nahi